बांग्लादेश से बंगाल साधेंगे PM मोदी! मतुआ समुदाय के चुनावी कनेक्शन को समझिए

मतुआ मंदिर के अलावा पीएम मोदी सतखेड़ा स्थित जसोरेश्वरी काली मंदिर भी पहुंचेंगे. (फाइल फोटो)

PM Narendra Modi Bangladesh Tour: रिपोर्ट्स के अनुसार, मतुआ (Matua) आबादी अनुमानित 5 करोड़ है. इनमें से 3 करोड़ अकेले पश्चिम बंगाल में हैं. इस संख्या में से 1.5 करोड़ मतदाता के तौर पर रजिस्टर्ड हैं.

नई दिल्ली. भारतीय जनता पार्टी (BJP) पश्चिम बंगाल चुनाव (West Bengal Election) को लेकर कोई भी मौका नहीं छोड़ना चाहती है. जब बंगाल में 27 मार्च को पहले चरण का मतदान होगा, तब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) बांग्लादेश के ओराखंडी स्थित मतुआ मंदिर में पूजा कर रहे होंगे. उनके इस कदम को राजनीति से जोड़कर देखा जा रहा है. क्योंकि बीजेपी बंगाल में मतुआ समुदाय (Matua Community) का समर्थन हासिल करने की कोशिश में नजर आ रही है.

मतुआ मंदिर के अलावा पीएम मोदी सतखेड़ा स्थित जसोरेश्वरी काली मंदिर भी पहुंचेंगे. उनकी यह मंदिर यात्रा को जानकार चुनावी तैयारी मान रहे हैं. खास बात है कि 2015 में अपने पहले दौरे पर मोदी ढाकेश्वरी मंदिर पहुंचे थे. यहां उन्होंने पूजा-अर्चना की थी, लेकिन उस दौरान उनके ससाथ ममता बनर्जी भी बांग्लादेश दौरे पर थीं. हालांकि, इस बार दोनों बंगाल के चुनावी रण में एक-दूसरे को कड़ी चुनौती दे रहे हैं.

बंगाल में रैली का प्लान
इधर बंगाल चुनाव होने में कुछ ही दिन बचा है. ऐसे में बीजेपी प्रधानमंत्री मोदी की रैली से उम्मीद लगा रही है. खबर है कि पीएम बंगाल में पहले और दूसरे चरण के मतदान के मद्देनजर राज्य में रैलियां कर सकते हैं. न्यूज-18 से बातचीत के दौरान बीजेपी के बंगाल अध्यक्ष दिलीप घोष ने बताया कि पीएम पुरुलिया, खड़गपुर, बांकुरा और कोंटाई में चार जनसभाएं करेंगे. उन्होंने कहा ‘उनकी रैली इस तरह से प्लान की गईं हैं कि वे पश्चिम बंगाल चुनाव के पहले दो चरणों को कवर करेंगी.’ उन्होंने बताया ‘ये रैलियां 10 दिनों में पूरी होंगी. उनके अंतिम शेड्यूल की घोषणा जल्दी ही की जाएगी.’यह भी पढ़ें: कोविड-19 महामारी के बाद 26 मार्च को पीएम नरेंद्र मोदी बांग्लादेश के दौरे पर

बंगाल चुनाव का मतुआ कनेक्शन
मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, मतुआ आबादी अनुमानित 5 करोड़ है. इनमें से 3 करोड़ अकेले पश्चिम बंगाल में हैं. इस संख्या में से 1.5 करोड़ मतदाता के तौर पर रजिस्टर्ड हैं. 19वीं सदी के अविभाजित बंगाल के देखें, तो ऐसा माना जाता है कि यह आबादी 30 विधानसभा सीटों पर चुनाव बदल सकती है. वहीं, अन्य 50 पर उनका खासा प्रभाव हो सकता है.

ऐसा होगा बंगाल कार्यक्रम
मंदिर जाने से पहले मोदी 26 मार्च को प्रधानमंत्री शेख हसीने से चर्चा करेंगे. इसके बाद वे नेशनल परेड ग्राउंड पर एक जनसभा में शामिल होंगे. 26 मार्च को ही पीएम मोदी गेस्ट ऑफ ऑनर के तौर पर बांग्लादेश के नेशनल डे कार्यक्रम का हिस्सा बनेंगे. विदेश मंत्री मसूद बिन मोमीन ने कहा है कि के भारत और बांग्लादेश आपदा प्रबंधन और सहयोग को लेकर तीन एग्रीमेंट पर साइन करेंगे.




Source link

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
2,737FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles