फिल्म ‘भोंसले’ के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार मिलने पर बोले मनोज बाजपेयी- सारे मलाल दूर हो गए

फिल्म ‘भोंसले’ को 2018 में कई फिल्म महोत्सवों में प्रदर्शित किया गया था. भारत में पिछले साल डिजिटल मंच ‘सोनी लिव’ पर यह फिल्म रिलीज हुई थी.

मनोज बाजपेयी (Manoj Bajpai) ने कहा कि करियर में कई मौके आए जब उन्हें उन किरदारों के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार (National Film Award) नहीं मिलने का अफसोस हुआ, जो उनके दिल के करीब थे, लेकिन ‘भोंसले’ के लिए सर्वश्रेष्ठ एक्टर का पुरस्कार मिलने से उनका यह मलाल दूर हो गया है.

मुम्बई. एक्टर मनोज बाजपेयी (Manoj Bajpai) ने कहा कि उनके करियर में कई ऐसे मौके आए जब उन्हें उन किरदारों के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार (National Film Award) नहीं मिलने का अफसोस हुआ, जो उनके ‘दिल के करीब थे’ लेकिन फिल्म ‘भोंसले (Bhonsle)’ के लिए सर्वश्रेष्ठ एक्टर का पुरस्कार मिलने के बाद अब उनका यह मलाल दूर हो गया है.

एक्टर मनोज बाजपेयी को फिल्म ‘भोंसले’ के लिए सर्वश्रेष्ठ एक्टर की श्रेणी में राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार दिया गया है. उनके साथ ही दक्षिण भारतीय फिल्मों के एक्टर धनुष को फिल्म ‘असुरन’ के लिए सर्वश्रेष्ठ एक्टर का पुरस्कार मिला है. बीते सोमवार को 67वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार की घोषणा की गई थी.

बाजपेयी ने कहा कि, ‘कई मौकों पर, मेरे कई प्रशंसनीय किरदारों के लिए… जो मेरे दिल के बेहद करीब थे और जिन पर मुझे बेहद गर्व था.. उनके लिए मुझे सम्मानित नहीं किया गया. मेरे फैंस ने, जिन्हें मेरे काम के बारे में पता था, इसका विरोध भी किया… लेकिन मैंने कभी कुछ नहीं कहा.’ उन्होंने कहा, ‘मुझे हमेशा से पता था कि एक दिन भगवान मुझ पर मेहरबान होगा. वह कई वर्षों से जारी मेरे संघर्ष को देखेगा. वह मुझे जरूर इसके लिए कोई तोहफा देगा…’

फिल्म ‘भोंसले’ को 2018 में कई फिल्म महोत्सवों में प्रदर्शित किया गया था. भारत में पिछले साल डिजिटल मंच ‘सोनी लिव’ पर यह फिल्म रिलीज हुई थी. बाजपेयी को 1998 में आई फिल्म ‘सत्या’ के लिए सर्वश्रेष्ठ सह एक्टर की श्रेणी में भी राष्ट्रीय पुरस्कार मिल चुका है.वर्कफ्रंट की बात करें तो मनोज बाजपेयी की आखिरी रिलीज फिल्म ‘सूरज पे मंगल भारी (Suraj Pe Mangal Bhari)’ है. इसमें उनके साथ दिलजीत दोसांझ भी नजर आ चुके हैं. उनकी मोस्ट अवेटेड अमेजन प्राइम की वेब सीरीज द फैमिली मैन 2 (The Family Man 2) की रिलीज डेट पोस्टपोन की जा चुकी है. माना जा रहा है कि ये फैसला ‘मिर्जापुर’ और ‘तांडव’ जैसी वेब सीरीज के चलते खड़ा हुए विवाद को देखते हुए लिया गया है. इन दो सीरीज पर केस भी दर्ज हुए हैं.





Source link

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
2,735FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles