केएल राहुल के बचाव में बोले विराट कोहली- खिलाड़ी को फेल होते देखना लोगों को अच्छा लगता है

IND VS ENG: विराट कोहली ने केएल राहुल का किया बचाव, हर कोई कर रहा है सलाम (फोटो-एएफपी)

INDIA VS ENGLAND: विराट कोहली (Virat Kohli) ने वनडे सीरीज से पहले केएल राहुल (KL Rahul) की खराब फॉर्म का बचाव किया. विराट कोहली ने कहा- कुछ तो लोग कहेंगे, लोगों का काम है कहना

नई दिल्ली. केएल राहुल का बल्ला इन दिनों खामोश है. इंग्लैंड के खिलाफ टी20 सीरीज में केएल राहुल बुरी तरह फ्लॉप साबित हुए. राहुल फ्लॉप क्या हुए लोगों ने उन्हें ट्रोल करना शुरू कर दिया. यहां तक कि उनकी बल्लेबाजी तकनीक पर ही सवाल खड़े होने लगे. केएल राहुल को टी20 सीरीज के पहले चार मैचों में मौका दिया गया और फिर पांचवें टी20 में उन्हें प्लेइंग इलेवन से बाहर कर दिया गया. हालांकि विराट कोहली (Virat Kohli)  ने केएल राहुल (KL Rahul)  का बचाव किया है. विराट कोहली ने वनडे सीरीज से पहले बड़ी बात कही. उन्होंने कहा कि खिलाड़ी को फेल होते देखना लोगों को अच्छा लगता है.

विराट कोहली ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, ‘फॉर्म और खराब फॉर्म को लेकर एक ही चीज मुझे समझ में आती है. कुछ तो लोग कहेंगे, लोगों का काम है कहना. मुझे ऐसा लगता है कि क्रिकेट के बाहर लोगों के अंदर बिलकुल भी सब्र नहीं है. लोग खिलाड़ी को फेल होते देखना चाहते हैं. कोई खिलाड़ी नीचे होता है तो लोगों को उसे नीचे गिराने में और ज्यादा मजा आता है. लेकिन टीम के अंदर हम जानते हैं कि लोगों को कैसे मैनेज करना है.’

‘विराट कोहली टी20 वर्ल्ड कप में ओपनिंग के लिए तैयार’
विराट कोहली ने पुणे वनडे से पहले हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि वो आईपीएल में बतौर ओपनर खेलेंगे और इस रोल को समझने की कोशिश करेंगे. उन्होंने कहा, ‘मैं आईपीएल में ओपनिंग करूंगा. मैं नंबर तीन, चार पर बल्लेबाजी कर चुका हूं और अब मुझे ओपनर के तौर पर अपने रोल को समझने की जरूरत है. इस तरह से मैं सूर्यकुमार यादव जैसे खिलाड़ी के लिए जगह बना सकता हूं. अगर वो ऐसे ही बल्लेबाजी करते रहे तो मैं ओपनर के तौर पर भी खेलने को तैयार हूं. बाहर लगातार कहा जाता है कि खिलाड़ी आउट ऑफ फॉर्म है तो इससे वो खिलाड़ी और परेशान होता है.’हार्दिक पंड्या की मंगेतर ने किया सूर्यकुमार यादव की पत्नी को ट्रोल, तस्वीर वायरल

फालतू बातों पर ध्यान नहीं देता-विराट कोहली
विराट कोहली ने कहा कि वो बाहर की बातों पर ध्यान ही नहीं देते. ये सब बातें उनके लिए फालतू हैं. करियर के पहले दिन से और आखिरी दिन तक ये मेरे लिये बेकार की बातें ही रहेंगी. कौन क्या, क्यों और कब बोल रहा है ये सब टीम के बाहर ही रहना चाहिए. हम अपने खिलाड़ी के साथ खड़े हैं और उनकी मानसिक स्थिति को अच्छा रखेंगे.




Source link

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
2,735FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles